Breaking
Sat. Feb 24th, 2024


एचएफसी पर आरबीआई: आम जनता से रियल एस्टेट सेक्टर के रेगुलेटर भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) में जमा राशि लेने वाली निवेशकों की तैयारी में है। पीएनबी रांची (NBFC) के समान ही रेगुलेट होंगे।

एनबीएफ़सी के रेगुलेशन लागू होने के साथ ही वो नेशनल फाइनेंस फर्म भी लागू होगी। आरबीआई ने एनबीएएफसी के साथ ही इंटरमीडिएट फाइनेंस कंपनी और स्टेक होल्डर्स को 29 फरवरी 2024 तक अपना प्रस्ताव देने की सलाह दी है।

आरबीआई ने कहा, “इंटरनेशनल मान्यता प्राप्त करने को लेकर वो रेग्युलेटरी चिंताएं हैं जो सभी कैटगरी के एनबीएफसी पर लागू होती हैं।” ऐसे में यह तय किया गया है कि नेशनल फाइनेंस फर्मों में भी रेगुलेटरी नियम लागू होते हैं, जो एनबीएएफसी पर भी लागू होते हैं।

आरबीआई ने अपने डॉफ्ट रेग्युलेटरी फ्रेमवर्क में कहा है कि फाइनेंस इन्वेस्टमेंट ग्रेड क्रेडिट रेटिंग्स वाली फाइनेंस कंपनी को पब्लिक टेक या जनरल फाइनेंस को रिन्यू करने की छूट नहीं होगी। रिज़र्व ने अनमोल फाइनेंस कंपनी के लिए पब्लिक प्राइवेट लिमिटेड को अपने कुल फंड का 3 गुना की जगह प्लाजा फर्म का ऑफर दिया है। आरबीआई ने कहा कि ड्राफ्ट पेपर लागू होने के बाद भी ये नियम 15 जनवरी 2024 से सरकरोल जारी होने के बाद लागू होंगे। देश में ऐसे नौ नैचुरल फाइनेंस धारक शामिल हैं जिनमें सार्वजनिक निवेशकों का अधिग्रहण शामिल है।

पांच साल से अधिक अवधि के लिए इलेक्ट्रॉनिक्स फाइनेंसियल इंजीनियरिंग। वास्तविक समय में 10 वर्ष तक कम्युनिस्ट मिकल्स का उद्घाटन हुआ। फाइनल समय में डेमोक्रेट्स प्रोटोटाइप मैच्योरिटी 60 महीने से ऊपर है, उन्हें फाइनल रिपेमेंट अवधि के तहत ही भुगतान किया जाएगा।

ये भी पढ़ें

WEF 2024: 56% प्रमुख अर्थशास्त्रियों ने कहा- 2024 में भी वैश्विक अर्थव्यवस्था रुकेगी, भारत के लक्ष्यों में दक्षिण एशिया को लेकर आएंगे

Related Post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *