Breaking
Wed. Apr 17th, 2024


ऋण माफी अभियान पर आरबीआई ने दी चेतावनी: आपने किस बैंक से कर्ज़ लिया है? क्या आपको सोशल मीडिया के जरिए कर्ज माफ करने का ऑफर मिला है? क्या आपने अखबारों में ऋण माफ़ी सुविधा वाले ऑफ़र का विज्ञापन देखा है। तो ऐसे में सलाह से सावधान रहें। सोशल मीडिया प्ले फॉर्म या फिर अखबारों में छपने वाले ऐसे क्रेडिट को लेकर नेटवर्क सेक्टर के नियामक भारतीय रिजर्व बैंक ने कर्ज लेने वाले सपनों को आगाह किया है।

कर्ज़ माफ करने वाले से सावधान रहें

आरबीआई ने प्रेस विज्ञप्ति जारी कर आम नागरिकों को ऐसे चित्र और संदेश देने वाले सुझावों से सावधान रहने को कहा है। डिजिटल रेग्यूलेटर ने कहा कि गैर-कानूनी तरीकों से चलाए जा रहे ऐसे अभियान और टैटू के झांसे में आने वाले लोगों को भारी विनाशकारी नुकसान का सामना करना पड़ सकता है। भारतीय रिजर्व बैंक ने सार्वजनिक रूप से ऐसे ऑफर डिपेअर्स या कैंपेन के खिलाफ लॉ का डुप्लिकेट वाले के खिलाफ पेश किया है जिसका मतलब है कि पुलिस के पास दर्ज शिकायत दर्ज की गई है।

प्रिंट – सोशल मीडिया पर चल रहा अभियान

आरबीआई ने कहा, वह ऐसे गलत करने वाले विज्ञापन देख रहे हैं जो कर्ज लेने वालों को कर्ज माफ करने का ऑफर दे रहे हैं। ऐसी यूनिटें प्रिंट मीडिया से लेकर सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म्स पर अभियान चला रही हैं। ऐसी रिपोर्ट है कि ये यूनिटयां एसोसिएट्स किसी भी सरकारी एजेंसी के कर्ज़ माफ़ी के बदले में सेवा या लीगल शुल्क चार्ज कर रही हैं। आरबीआई ने कहा कि हमारे मोबाइल में यह भी आया है कि कुछ जगहों पर कुछ लोगों की तरफ से इसे लेकर अभियान चलाया जा रहा है जो कि बैंकों के अधिकारों को चुनौती देने का काम कर रहे हैं।

वित्तीय संस्थान की स्थिरता को खतरा

आरबीआई ने कहा कि ये लोग आम लोग कह रहे हैं कि बैंकों और वित्तीय ग्राहकों को कर्ज वापस लेने की अनुमति नहीं है। ऐसी घटनाएं फाइनेंसियल्स की स्थिरता को चुनौती दे रही हैं साथ ही फाइनेंसरों के हितों की भी अनदेखी कर रही हैं। आरबीआई ने आम लोगों से जुड़े ऐसे लोगों और समुदाय से जुड़े लोगों को भी भारी नुकसान हो सकता है।

ये भी पढ़ें

विकसित भारत@2047: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भारत को विकसित देश बनाने की योजना दिखाई, पोर्टल भी लॉन्च किया गया



Related Post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *