Breaking
Tue. Apr 16th, 2024


भारत का विदेशी मुद्रा भंडार: विदेशी मुद्रा भंडार में बड़ा उछाल आया है। डेटा के अनुसार 15 दिसंबर को समाप्त सप्ताह में विदेशी निवेश में उछाल के मामले में विदेशी मुद्रा भंडार 9.11 उछाल डॉलर में उछाल 615.97 डॉलर पर पहुंच गया है जो उसके पहले सप्ताह में 606.85 डॉलर पर पहुंच रहा था। ये लगातार पांचवा हफ्ता है जब विदेशी मुद्रा भंडार में उछाल देखने को मिलता है।

भारतीय रिजर्व बैंक ने शुक्रवार 22 दिसंबर, 2023 को विदेशी मुद्रा भंडार का डेटा जारी किया है। आंकड़ों के अनुसार 15 दिसंबर को समाप्त सप्ताह में विदेशी मुद्रा भंडार 9.11 विदेशी मुद्रा भंडार के साथ 615.97 विदेशी मुद्रा भंडार रहा। इस दौरान विदेशी विदेशी संपत्तियों में भी उछाल आया और ये 8.34 डॉलर का उछाल 545.04 डॉलर पर आ गया।

आरबीआई के गोल्ड रिजर्व में भी बढ़ोतरी हुई है। आरबीआई का आरक्षित सोना 446 मिलियन डॉलर के साथ 47.57 डॉलर पर है। एस होल्डिंग्स में 135 मिलियन डॉलर का उछाल 18.32 मिलियन डॉलर और इंटरनेशनल मॉनिटरी फंड में जमा रिजर्व 181 मिलियन डॉलर का उछाल के साथ 5.02 डॉलर का उछाल है।

विदेशी मुद्रा भंडार में उछाल की बड़ी वजहों में विदेशी निवेश में आई तेजी शामिल है। फेड रिजर्व के स्टॉक निवेश में बढ़ोतरी के फैसले और वर्ष 2024 में रुचि के शेयरों में टुकड़ों के स्थानों के बाद देश में विदेशी पोर्टफोलियो निवेश में प्रवेश देखने को मिला है। इस बात की संभावना है कि नए साल में विदेशी निवेश में और भी उछाल आ सकता है।

अक्टूबर 2021 में विदेशी मुद्रा भंडार 645 डॉलर के स्तर तक पहुंच गया था जिसके बाद बड़ी गिरावट आई थी। अब विदेशी मुद्रा भंडार डॉलर अपने पुराने उच्च से 30% दूर है। डॉलर में उछाल के साथ उछाल आया, डॉलर के शेयर बाजार में मजबूती आई। 22 दिसंबर को एक डॉलर के ग्रुप रिपब्लिक 14 पैसे की मजबूत ताकत 83.14 के स्तर पर गिरावट हुई है।

ये भी पढ़ें

भारत बनाम चीन: चीन के सबसे जापानी बैंक MUFG का हुआ मोहभंग, भारत में बड़े पैमाने पर है निवेश योजना

Related Post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *