Breaking
Sat. Feb 24th, 2024


आरबीआई बोर्ड मीट अपडेट: किंग सेक्टर के नियामक भारतीय रिजर्व बैंक (भारतीय रिजर्व बैंक) के सेंट्रल बोर्ड ऑफ डायरेक्टर्स (सेंट्रल बोर्ड ऑफ डायरेक्टर्स) की 605वीं बैठक गुजरात के एकता नगर (एकता नगर) (केवड़िया) (केवड़िया) में हुई। रिजर्व बैंक के गवर्नर शक्तिकांत दास (शक्तिकांत दास) की अध्यक्षता में हुई इस बैठक में वैश्विक भू-राजनीतिक घटनाक्रम (ग्लोबल जियोपॉलिटिकल डेवलपमेंट्स) के समग्र देश – विदेश के आर्थिक से लेकर वित्तीय ढांचे पर चर्चा की गई।

भारतीय रिजर्व बैंक ने इस बैठक को लेकर एक विज्ञप्ति जारी कर बताया कि आरबीआई बोर्ड ने वैश्विक जियोपॉलिटिक्स संपत्तियों की शुरुआत की घोषणा के साथ ही घरेलू स्तर पर अंतरराष्ट्रीय आर्थिक और फाइनेंशियल वित्तीय संस्थानों की समीक्षा की है। आरबीआई बोर्ड ने इस बैठक में चुनिंदा सेंट्रल ऑफिस डिपार्टमेंट की सक्रियता के साथ 2022-23 में देश में वित्तीय रुझान और प्रोग्रेस के ड्रफ्ट रिपोर्ट पर भी चर्चा की है।

आरबीआई के बोर्ड ऑफ डायरेक्टर्स की इस बैठक में डिप्टी गवर्नर मिशेल देब्रत पात्रा, एम राजेश्वर राव, रवि टी शंकर, स्वामी जेबनाथन के अलावा बोर्ड ऑफ डायरेक्टर्स के अन्य सदस्य शामिल हुए। इनमें से एक के अलावा दशरथ के मराठे, रेवती अय्यर, महिंद्रा एंड महिंद्रा ग्रुप के महिंद्रा आनंद महिंद्रा जो और रेस्टॉरेंट एचएच ढोलकिया भी शामिल हुए। भारत सरकार की ओर से इस बैठक में आर्थिक मामलों के सचिव अजय सेठ ने इस बैठक में अध्ययन की जानकारी दी.

रिजर्व बैंक के सेंट्रल बोर्ड ऑफ डायरेक्टर्स की बैठक तब हो रही है जब अमेरिका के फेड रिजर्व ने पिछले सप्ताह यह हस्ताक्षर दिया था कि 2024 में फेड रिजर्व रिजर्व रिजर्व में तीन शेयर कर सकते हैं। जिसके बाद अमेरिका और भारतीय शेयर बाजार सहित भारत के शेयर बाजार जूम उठा। इस बात की संभावना जताई जा रही है कि अगले साल भारत में विदेशी निवेश में शेयरधारकों को बढ़ावा मिल सकता है। साथ ही फेड रिज़र्व अमेरिका में ब्याज निवेश में कटौती की जा सकती है।

ये भी पढ़ें

आईआरसीटीसी स्टॉक मूल्य: स्टॉक में शेयर की कीमत दो साल के उच्चतम स्तर पर, 10% की उछाल के बाद शेयर में ऊपरी सर्किट लगा

Related Post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *