Breaking
Sat. May 18th, 2024

[ad_1]

आरबीआई मौद्रिक नीति: देश में यूपीआई के उद्देश्य को बढ़ावा देने के लिए रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया लगातार प्रयास कर रहा है। यही वजह है कि हर महीने यूपी ट्रांजेक्शन की संख्या में बढ़ोतरी हो रही है। आरबीआई ने यूपीआई में नेशनल ट्रांजेक्शन से लेकर आर्टिफिशल कंपनी (एआई) के प्रयोग को बढ़ावा दिया है। आरबीआई गवर्नर (RBI गवर्नर) शक्तिकांत दास (शक्तिकांत दास) ने शुक्रवार को मॉनिटरी डील के खुलासे में बताया कि रेपो रेट में कोई बदलाव नहीं किया जा रहा है। साथ ही उन्होंने हॉस्पिटल और एजुकेशन स्टूडेंट्स में यूपीआई ट्रांजेक्शन की सीमा पांच लाख रुपये करने की भी घोषणा की।

अस्पताल और शिक्षा में कर्ज़ का भारी भुगतान

आरबीआई के नए जजमेंट के बाद हॉस्पिटल और एजुकेशन स्टूडेंट्स में अब यूपीआई की मदद से बड़ी रकम दी गई। नई नीति के अनुसार, अब इन जगहों पर प्रति ट्रांज़ैक्शन एक लाख के बजाय 5 लाख रुपये तक का भुगतान यूपीआई से किया जा सकेगा। इस जजमेंट से इन अलॉटमेंट में यूपीआई के इस्तेमाल को बढ़ावा दिया जाएगा। बेसिक के बिल और स्कूल-कॉलेजों में फीस जमा करने में होने वाली दिक्कत कम होगी।

लोन की लॉटरी पर कोई राहत नहीं

रिजर्व बैंक ने पोर्टफोलियो रेटिंग और दूसरी नीतिगत रेटिंग में कोई बदलाव नहीं किया है। इस तरह लोन की लोकल पर नहीं मिलेगी कोई राहत. आरबीआई की मानक नीति में रेपो रेट में कोई बदलाव नहीं होने से बैंकों को एक समान रेटिंग पर लोन जारी रहेगा। ये लगातार चौथी बार है, जब रिजर्व बैंक ने अपनी नीतिगत ब्याज दर में कोई बदलाव नहीं किया.

5.40 प्रतिशत रंजित दर

शक्तिकांत दास ने वित्त वर्ष 2024 में देश में 5.40 प्रतिशत ही रहने का अनुमान लगाया है। अगस्त, 2023 में आरबीआई ने तिमाही दर का अनुमान 5.40 फीसदी कर दिया था। पिछले कुछ समय में भोजन-पीने की एनीया के दाम में जबरदस्त लोडिंग दर्ज की गई है। साथ ही कच्चे तेल की झील में भी निकाला जा रहा है। इसके बावजूद शतरंज ने रेटिंग का अनुमान नहीं लगाया है। दास ने कहा कि खाद्य उत्पादों के थोक व्यापारी बाजार में पिछवाड़े स्ट्रार्ट चेन जैसे कई अन्य कारण भी शामिल हैं। बैंक सेंट्रल ने वित्त वर्ष 2024 की तीसरी तिमाही में 5.6 प्रतिशत और चौथी तिमाही में 5.20 प्रतिशत रहने का अनुमान दिया है।

ये भी पढ़ें

आरबीआई की कार्रवाई: आरबीआई ने एक का लाइसेंस रद्द किया, चार पर जुर्माना लगाया

[ad_2]

Related Post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *