Breaking
Wed. Apr 17th, 2024

[ad_1]

न्यूनतम शेष: रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया (RBI) ने बैंक ग्राहकों को बड़ी राहत दी है। आर.एफ.आई. के अनुसार, अब निष्क्रिय और इन शेयरधारकों में मिनिमम बैलेंस पर भी चार्ज नहीं लगेगा। रिज़र्व बैंक ने बैंकों से कहा है कि ऐसे बैंक खाते में दो साल से कोई ट्रांज़ेक्शन नहीं है, इन पर मिनिमम बैलेंस शीट का नियम लागू नहीं किया जा सकता है। साथ ही स्कॉलरशिप और डायरेक्ट बेनिटिट पोस्टर (डीबीटी) के लिए खरीदे गए पोर्टफोलियो को भी निष्क्रिय नहीं किया जा सकता है। वैसे ही दो संतों से उनका कोई ट्रांजेक्शन नहीं हुआ। यह नए नियम एक अप्रैल से लागू होंगे।

आरबीआई ने एक सरकरोल जारी किया

टाइम्स ऑफ इंडिया की रिपोर्ट के मुताबिक, आरबीआई ने इस संबंध में एक सरकुलर जारी किया है। आरबीआई के नए स्नातकों के स्नातकों को नामांकन के बारे में जानकारी होगी। आरबीआई बैंक में नोटपैड दस्तावेजों को कम करने की कोशिश की जा रही है। यह सरकरोल भी इसी प्रयास का एक हिस्सा है.

एसएमएस, पत्र या ईमेल से मित्रोगी जानकारी

बैंकों को नए उद्यमियों को एसएमएस, पत्र या ईमेल के माध्यम से उनके नामांकन के बारे में जानकारी देनी होगी। बैंकों से यह भी कहा गया है कि यदि किसी खातेदार के मालिक से उत्तर नहीं मिलता है तो गारंटर से संपर्क करें। नया खाता खरीदेते समय गारंटी की आवश्यकता होती है।

सक्रियण करने पर नहीं लिया गया शुल्क

समर्थकों का कहना है, किसी भी खाते में न्यूनतम शेष राशि बनाए रखने की अनुमति नहीं है। निष्क्रिय नामांकन को सक्रिय करने के लिए कोई शुल्क नहीं लगाया जाएगा। आरबीआई के मुताबिक, मार्च 2023 के आखिरी तक लावारिस जमा 28 फीसदी का शेयर बाजार 42,272 करोड़ रुपये हो गया, जो एक साल पहले 32,934 करोड़ रुपये था।

10 साल से बंद बांड का पैसा बकाया आरबीआई को

जमा खाते में कोई भी शर्त नहीं है, जो 10 साल या उससे अधिक समय से संचालित नहीं है। जमाकर्ता और शिक्षा जागरूकता द्वारा बनाए गए रिजर्व बैंक में स्थानांतरित किया जाना आवश्यक है।

ये भी पढ़ें

UPI ट्रांजेक्शन रिकॉर्ड: यूपीआई ट्रांजेक्शन ने बनाया रिकॉर्ड, साल 2023 में 100 करोड़ का आंकड़ा पार

[ad_2]

Related Post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *