Breaking
Tue. Apr 23rd, 2024

[ad_1]

आने वाले दिनों में अदानी ग्रुप के कई बांड्ज़ बाज़ार में डिलीवरी वाली हैं। ऐसा बताया जा रहा है कि आने वाले दिनों में गौतम अडानी के ग्रुप के 6 निवेशक घरेलू और विदेशी बाजार में उतर सकते हैं।

ये आकर्षक होंठ वाली हैं बॉन्ड

बिजनेस टुडे की एक रिपोर्ट में अडानी ग्रुप के जो बिजनेस बॉन्ड मार्केट में उतरने की तैयारी कर रहे हैं, उनमें अडानी ग्रीन एनर्जी, अडानी पोर्ट्स एंड सेज, अडानी एनर्जी सोलशंस, अडानी पावर जेसी लिस्टेड इंडस्ट्रीज और अडानी एयरपोर्ट्स और अडानी रोड्स जैसे अनलिस्टेड हैं। किसान शामिल हैं. दोनों एनालिस्टेड कंपनी अडानी एयरपोर्ट्स और अडानी रोड्स अभी भी अडानी इंटरनैशनल इंटरप्राइजेज की साझेदारी के रूप में काम कर रही हैं।

इन्फ्रा पर करने वाला है इतना खर्च

रिपोर्ट के मुताबिक, अडानी ग्रुप की 6 कंपनियों ने घरेलू और विदेशी बाजार में बड़े पैमाने पर बॉन्ड की बिक्री कर फंडों की योजना की तैयारी की है। रियल अडानी ग्रुप ने अगले एक दशक में 84 मिलियन डॉलर का भारी-भरकम खर्च करने का फैसला किया है। ऐसे में कंपनी को मोटोपोर्ट की जरूरत होती है.

इस तरह से होती है पोर्टफोलियो की तैयारी

बिजनेस विस्तार के अगले कुछ दिनों में अडानी ग्रुप को लंबी अवधि के वित्त पोषण की भी जरूरत है। अडानी ग्रुप लॉन्ग पीरियड के ज्यादातर फंड्स को विदेशी मार्केट सेलेक्ट करना चाहता है। कंपनी की योजना है कि कुल फंड में 80 फीसदी विदेशी बाजार कंपनियां शामिल हैं, जबकि बाकी बचे 20 फीसदी हिस्से में घरेलू बाजार कंपनियां शामिल हैं।

अभी बस इतना है घरेलू हिस्सा

अभी अडानी ग्रुप के बॉन्ड पोर्टफोलियो में घरेलू बाजार का हिस्सा बेहद मामूली है। ग्रुप के पोर्टफोलियो में घरेलू बाजार का स्टॉक करीब 6 फीसदी है, जिसे 20 फीसदी तक ले जाने की योजना है। इस साल जनवरी में हिंडनबर्ग रिसर्च की अलास्का रिपोर्ट आने के बाद अडानी ग्रुप पहली बार बड़े स्तर पर फंड शेयरधारक का प्रयास करने जा रही है।

इलेक्शन का फैंटेसी गेम, जीतें 10,000 तक के गैजेट्स 🏆
*नियम एवं शर्तें लागू
https://bit.ly/ekbabplbanhin

ये भी पढ़ें: निवेश की सच्ची आजादी देते हैं फंड फंड, इस जांच गाइड से जानें…कैसे!

[ad_2]

Related Post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *