Breaking
Tue. Apr 16th, 2024


आईडीएफसी-आईडीएफसी बैंक विलय: एफसी फर्स्ट बैंक और एफसी के विलय को लेकर एक बड़ी खबर सामने आई है। भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) ने दोनों के विलय को अपनी मंजूरी दे दी है। शेयर बाजार को दी गई जानकारी के अनुसार बैंक को पंजीकरण से विलय की मंजूरी 18 दिसंबर को मिल गई है। इससे पहले भारतीय आयोग ने भी इस मर्जर की मंजूरी दे दी थी।

किसको कितना शेयर करेंगे

सीसीआई का कहना है कि इस विलय में तय अनुपात 155:100 के बीच तय किया गया है। ऐसे में आईडीएफसी के 100 शेयर के बदले आईडीएफसी बैंक में कुल 155 शेयर मीटिंग वाले हैं। आईडीएफसी फर्स्ट बैंक में आईडीएफसी की कुल हिस्सेदारी 39.93 प्रतिशत है। वहीं आईडीएफसी लिमिटेड के पास आईडीएफसी नागालैंड के पास मार्च 2023 तक 2.4 लाख करोड़ रुपये की संपत्ति मौजूद है। वहीं बैंक ने वित्त वर्ष 2023 में कुल 27,194.51 करोड़ रुपये का टर्नओवर दर्ज किया।

स्टॉक में आई गिरावट

आईडीएफसी-आईडीएफसी बैंक के मर्जर की मंजूरी की खबर मिलने के बाद आईडीएफसी बैंक के स्टॉक में जबरदस्त हलचल देखने को मिली है। बैंक के शेयर में सोमवार को 0.27 फीसदी की गिरावट के साथ 89.74 पर गिरावट दर्ज की गई. वहीं प्लांटेशन में 0.24 फीसदी की गिरावट दर्ज की गई है।

एचडीएफसी बैंक का दूसरा सबसे बड़ा मर्जर डिलर है

आईडीएफसी-आईडीएफसी बैंक मर्जर एचडीएफसी बैंक मर्जर के बाद यह इस साल की दूसरी सबसे बड़ी डील है। बैंक के विलय के लिए सीसीआई, एनसीएलटी, बीएसई, एनएसई और कई अन्य नियामक संस्थानों के अलावा रिजर्व बैंक की मंजूरी की आवश्यकता है। इस मर्जर के जरिए आईडीएफसी फर्स्ट बैंक, आईडीएफसी लिमिटेड और आईडीएफसी एफएचसीएल को मर्जर बनाकर एक यूनिट बनाई जा रही है। इससे पहले साल 2018 में आईडीएफसी बैंक और कैपिटल फर्स्ट का विलय करके इसे आईडीएफसी फर्स्ट बैंक बनाया गया था।

ये भी पढ़ें-

ट्रेन रद्द सूची 19 दिसंबर: रेलवे के इस जोन में कई ट्रेन कैंसिल और ये रेलगाड़ी आंशिक रूप से रद्द, यात्रा से पहले जानें

Related Post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *