Breaking
Fri. Feb 23rd, 2024


दलहन उत्पादन में आत्मनिर्भरता: दिसंबर 2027 तक दलहन के उत्पादन में भारत को आत्मनिर्भर बनाने की दिशा में केंद्र सरकार ने बड़ा फैसला लिया। देश के किसानों के लिए सबसे ज्यादा अरहर दाल की खेती करना उपयोगी है, इसके लिए सरकार ने एक बड़ी योजना शुरू की है। सरकार की ओर से नाफेड (NAFED) और NCC (NCCF) ने एक वेब पोर्टल लॉन्च किया है, जिसमें जिस्पर अरहर दाल का उत्पादन करने वाले किसान रजिस्टर कर न्यूनत्तम सपोर्ट मुल्य पर ऑनलाइन अरहर दाल बेच सकते हैं। किसानों को उनकी उपज सीधे बैंक में डीबीटी के माध्यम से दी जाएगी।

जनवरी 2028 से दाल का आयात नहीं होगा

गृह एवं भवन मंत्री अमित शाह ने यह वेब पोर्टल लॉन्च किया है। अमित शाह ने कहा, भारत में चना दाल और मूंग की अन्य दालों को खत्म करना आत्मनिर्भर नहीं है। बाकी दलहनों के लिए भारत अहित पर प्रतिबंध है। उन्होंने कहा, भारत के लिए दाल का मुद्दा उठाना जरूरी नहीं है। शाह ने दिसंबर 2027 से पहले भारत दलहान के क्षेत्र में आत्मनिर्भर बन गया और जनवरी 2028 से भारत एक बच्चे की भी दाल का इरादा नहीं रखेगा।

किसान ऑफ़लाइन बिकम अरहर दाल

वेबपोर्टल को लॉन्च करते समय अमित शाह ने कहा कि, नाफेड और एनसीसी के वेब पोर्टल पर किसानों को खेती करने से पहले रजिस्ट्रेशन कराना होगा। फसल के उत्पादन के बाद किसान अपनी अरहल दाल को ऑनलाइन पोर्टल पर बेच सकते हैं। उन्होंने निर्देश दिया कि डायरेक्ट बेनेफिट स्ट्रेटेजी के माध्यम से किसानों को उनके दलहन का भुगतान करना होगा। शाह ने कहा कि अगर तब दाल की कीमत सबसे ज्यादा है तो तब सरकार उतनी कीमत देगी, अमित को झटका लगेगा।

एमएसपी पर दाल खरीदेगी सरकार

गृह एवं मंत्री ने कहा कि अपनी उपज की कीमत नहीं मिलने पर किसान दलहन हड्डी से काम ले रहे थे। वे किसानों से वेब पोर्टल पर जरूर रजिस्टर करें ताकि कहा जा सके कि वे अपने उत्पादों को बाजार में क्यों न बेचें, जहां उन्हें ज्यादा कीमत मिले। लेकिन प्लांट से कम कीमत पर उनकी कंपनी को नाफेड और एनसीसीएफ खरीदेगी ये सरकार की संस्था है। अमित शाह ने कहा, अरहर, उड़द और मसूर के उत्पादन में भारत को आत्मनिर्भर बनाने की सरकार की कोशिश है.

आखिरी होगी दाल

अमित शाह ने कहा, यह वेब पोर्टल लॉन्च किया जा रहा है और दालों के उत्पादन में भारत की आत्मनिर्भरता से देश के आम लोगों को पसंदीदा कीमत पर दाल मिल जाएगी। उन्होंने बताया कि भारत सरकार के माध्यम से उच्च गुणवत्ता वाले लोगों को दाल उपलब्ध करा रही है।

ये भी पढ़ें

इंडिगो फ्यूल चार्ज में कटौती: प्रतिष्ठित होगी हवाई यात्रा, इंडिगो ने फुल चार्ज के फैसले को वापस ले लिया है

Related Post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *